Allah se दुआ ki Kavita-Dawat~e~Tabligh

तेरी अजमतों से हूँ बेख़बर, यह मेरी नज़र का क़सूर हैं। कहीं दिल की शर्त न डालना, अभी दिल निगाहों से दूर है। Allah se दुआ ki Kavita – Web Stories in Hindi Dawat~e~Tabligh…

Allah se दुआ ki Kavita-Dawat~e~Tabligh
Allah se दुआ ki Kavita-Dawat~e~Tabligh

दुआ ki Kavita

तेरी अजमतों से हूँ बेख़बर

यह मेरी नज़र का क़सूर हैं।

तेरी रहगुज़र में क़दम क़दम

कहीं अर्श है, कहीं तूर है,

यह बजा है मालिके बन्दगी

मेरी बन्दगी में कुसूर हैं। 

यह ख़ता है मेरी ख़ता मगर

तेरा नाम भी तो गुफर हैं।

कहीं दिल की शर्त न डालना 

अभी दिल निगाहों से दूर है। 

दुआ ki Kavita- Web Stories

  • Deen की दावत कियो जरूरी है ? | Hazrat Abbu Bakar के इस्लाम लेन के बाद Dawat~e~Tabligh

    Deen की दावत कियो जरूरी है ? | Hazrat Abbu Bakar के इस्लाम लेन के बाद Dawat~e~Tabligh

  • Duniya की जिंदगी खेल-तमाशे हैं  | 5 चीज़ों में जल्दबाज़ी जाइज़ है – Dawat~e~Tabligh

    Duniya की जिंदगी खेल-तमाशे हैं | 5 चीज़ों में जल्दबाज़ी जाइज़ है – Dawat~e~Tabligh

  • Boss के gusse से बचने का wazifa | जालिम को कैसे हराए ? Dawat~e~Tabligh

    Boss के gusse से बचने का wazifa | जालिम को कैसे हराए ? Dawat~e~Tabligh

Leave a Comment

जलने वालों से कैसे बचे ? Dil naram karne ka wazifa अपने खिलाफ में Bolne वालों से बचने का nuskha Boss के gusse से बचने का wazifa Dusman से हिफाजत और ausko हराने का nuskha