Hazratji Molana Yousuf कि इंतिक़ाल (Death) in Hindi| Dawat-e-Tabligh

हजरतजी Molana Yousuf एक ऐसे दाई का इतिकाल है, जिसका पूरी दुनिया में कोई सानी तलाश करना मुश्किल है। हजरतजी Molana Yousuf एक ऐसे रूहानी पेशवा का इंतिक़ाल है जो हरदम मैदान में सरगमेंकार रहा।

हजरतजी Molana Yousuf का इंतिक़ाल

– मौलाना मुहम्मद अल-हसनी नदवी, एटीटर ‘तामीरे हयात’, लखनऊ 

● एक ऐसे दाई का इतिकाल है, जिसका पूरी दुनिया में कोई सानी तलाश करना मुश्किल है। 

● एक ऐसे मुजाहिद का इतिकाल है, जिसने 20 साल में सैकड़ों साल का काम अंजाम दिया। एक ऐसे मुबल्लिग़ का इतिकाल है, जिसकी हिम्मते मर्दाना से दुनिया के बहुत दूर-दूर के हिस्सों में दीनी दावत व इस्लाह का पैग़ाम पहुंच गया। 

● एक ऐसे आलिम का इंतिकाल है, जिसकी जिंदगी सर ता पा अमल थी।

● एक ऐसे रूहानी पेशवा का इंतिक़ाल है जो हरदम मैदान में सरगमेंकार रहा।

●  एक ऐसे बन्दे का इंतिक़ाल है जिसने इस चौदहवीं सदी में कर्ने अव्वल के इस्लाम का नमूना पेश किया।

● एक ऐसे उम्मती का इंतिक़ाल है जिसने दुनिया को एक बार फिर सुन्नते मुहम्मदी की जिंदा झलकियां दिखाई। 

● एक ऐसे इंसान का इंतिक़ाल है जिसके काम करने की ताक़त के सामने सैंकड़ों लोगों की कारकर्दगी हेच थी।

● एक ऐसे साहिबे दिल बुजुर्ग का इंतिक़ाल है, जिसका दिल सोज़ व तपिश की भट्टी था ।

और

● एक ऐसे मुअल्लिम का इंतिक़ाल है जिसने लाखों इंसानों को दीन का इल्म सिखाया। आज हज़रत जी रह० के ग़म में एक पूरी दुनिया सोगवार है। आसमां उनकी लहद पर शबनम अफ़शानी करे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.