नफिल Namaz के Duniya में फ़ायदे | रातो में Namaz फड़ने वाले Web Stories| Dawat-e-Tabligh

नफिल Namaz के Duniya में फ़ायदे | रातो में Namaz फड़ने वाले Web Stories| Dawat-e-Tabligh

Web Stories
हिसाब-किताब, किसास, मीज़ान ' और हर जान को उसके अमल का पूरा बदला दिया जाएगा।' नफ़्लों Namaz के फायदा | रातो में Namaz फड़ने वाले Web Stories | Dawat-e-Tabligh..
Read More
नफिल Namaz के Duniya में फ़ायदे | रातो में Namaz फड़ने वाले | Dawat-e-Tabligh

नफिल Namaz के Duniya में फ़ायदे | रातो में Namaz फड़ने वाले | Dawat-e-Tabligh

Maidan-e-Hashr
हिसाब-किताब, किसास, मीज़ान ' और हर जान को उसके अमल का पूरा बदला दिया जाएगा।' नफ़्लों Namaz के फायदा | रातो में Namaz फड़ने वाले | Dawat-e-Tabligh.. नफिल Namaz के Duniya में फ़ायदे | रातो में Namaz फड़ने वाले | Dawat-e-Tabligh  नीयतों पर फैसले नफिल Namaz के फ़ायदे नमाज़ का हिसाब और नफ़्लों का फायदा हज़रत अबू हुरैरः ने फरमाया कि मैंने रसूलुल्लाह से सुना है कि बेशक क़ियामत के दिन बंदे के आमाल में से पहले उसकी नमाज़ का हिसाब किया जाएगा। पस अगर नमाज़ ठीक निकली तो कामयाबी और बामुराद होगा और अगर नमाज़ ख़राब निकली तो नामुराद और टोटा उठाने वाला होगा। पस उसके फ़र्ज़ी में कोई कमी रह जाएगी तो अल्लाह तआला फ़रमायेंगे कि देखो, क्या मेरे बन्दे के कुछ नफ़्ल भी हैं? पस (अगर नफ़्ल…
Read More
शैतान का फसाना | Shaitan की चलाकिया | Dawat-e-Tabligh

शैतान का फसाना | Shaitan की चलाकिया | Dawat-e-Tabligh

Maidan-e-Hashr
Shaitan मेरी बात क्यों मानी? तुम खुद मुज्मि हो? पैगम्बरों की दावत छोड़कर , हुज्जत और दलील के ज़रिए। मेरे झूठे और बातिल बुलावे पर तुमने क्यों कान धरा। कोई ज़बरदस्ती हाथ पकड़ के तो मैंने तुमसे कुफ़ व शिर्क के काम कराये नहीं। शैतान का फसाना | Shaitan की चलाकिया | Dawat-e-Tabligh.... शैतान का फसाना | Shaitan की चलाकिया | Dawat-e-Tabligh शैतान का फसाना अपने मानने वालों के सामने शैतान का सफाई पेश करना दुनिया में शैतान ने अपने गिरोह के साथ इंसानों को ख़ूब बहकाया और हक़ के रास्ते से हटाकर कुफ्र व शिर्क में फांसा। मगर क़ियामत के दिन इंसानों को ही इल्ज़ाम देगा कि तुमने मेरी बात क्यों मानी। मेरा तुम पर क्या ज़ोर था। चुनांचे अल्लाह का इर्शाद है : ‘और जब फ़ैसले हो चुकेंगे,…
Read More
कौन गुमराह न हो स्केगा ? |आराफ़ क्या है ? |मौत खतम | Dawat-e-Tabligh

कौन गुमराह न हो स्केगा ? |आराफ़ क्या है ? |मौत खतम | Dawat-e-Tabligh

Maidan-e-Hashr
जो Jannat में दाखिल होगा, उसमें हमेशा रहेगा। Jannat में किसी को Maut न आएगी। न उससे निकाले जाएंगे, न निकलना चाहेंगे । कौन गुमराह न हो स्केगा ? |आराफ़ क्या है ? |मौत खतम | Dawat-e-Tabligh.... कौन गुमराह न हो स्केगा ? |आराफ़ क्या है ? |मौत खतम | Dawat-e-Tabligh  क़ियामत का दिन कितना बड़ा होगा ?  क़ियामत के दिन की लंबाई क़ियामत का दिन बहुत लंबा होगा। हदीस शरीफ़ में इसकी लंबाई 50,000 वर्ष बतायी गयी है।' यानी पहली बार सूर फूंकने के वक्त से लेकर बहिश्तयों के बहिश्त में जाने और दोज़खियों के दोज़ख़ में करार पकड़ने तक पचास हज़ार वर्ष की मुद्दत होगी। इतना बड़ा दिन मुश्किों, काफिरों और मुनाफिकों के लिए बड़ा सख्त होगा। ईमान वाले बंदों के लिए अल्लाह आता आसानी फरमा देंगे। चुनांचे हदीस शरीफ…
Read More
औरतों का लालच | Paisa बड़े वबाल की चीज़ है | Dawat-e-Tabligh

औरतों का लालच | Paisa बड़े वबाल की चीज़ है | Dawat-e-Tabligh

Maidan-e-Hashr
औरतों को कपड़े और ज़ेवर का लालच जो होता है, इसको कौन नहीं जानता? कपड़े और ज़ेवर के लिए , गुनाहों में न ख़र्च करना बड़ा कठिन काम है। औरतों का लालच | Paisa बड़े वबाल की चीज़ है | Dawat-e-Tabligh औरतों का लालच | Paisa बड़े वबाल की चीज़ है | Dawat-e-Tabligh Amir लोग Jannat में क्यू Der से जाएंगे ?  मालदार हिसाब की वजह से जन्नत में जाने से अटके रहेंगे हज़रत अबू हुरैरः से रिवायत है कि आहज़रत सैयदे आलम ने • फ़रमाया कि तंगदस्त लोग जन्नत में मालदारों से पांच सौ वर्ष पहले दाख़िल होंगे।'। और यह भी इर्शाद फ़रमाया कि मैंने जन्नत के दरवाज़े पर खड़े होकर देखा तो उसमें जो दाख़िल हो चुके थे ज़्यादा तर मिस्कीन लोग थे और माल वाले (हिसाब देने के लिए)…
Read More
Allah को कैसे देखेंगे? |अल्लाह की रहमत | पुलसिरात का रास्ता पार करना | Dawat-e-Tabligh

Allah को कैसे देखेंगे? |अल्लाह की रहमत | पुलसिरात का रास्ता पार करना | Dawat-e-Tabligh

Maidan-e-Hashr
क्या दोपहर के वक्त सूरज के देखने में तुमको तकलीफ होती है, जबकि वह बिल्कुल साफ हो और उस पर कुछ भी बादल न हो? पुलसिरात रखी जाएगी, जो तेज़ की हुई तलवार की तरह होगी। Allah को कैसे देखेंगे?| अल्लाह की रहमत | पुलसिरात का रास्ता पार करना | Dawat-e-Tabligh... Allah को कैसे देखेंगे? |अल्लाह की रहमत | पुलसिरात का रास्ता पार करना | Dawat-e-Tabligh अल्लाह की रहमत अल्लाह की रहमत से बख़्शे जायेंगे हज़रत अबू सईद खुदरी से रिवायत है कि आंहज़रत सैयदे आलम ने फरमाया कि हरगिज़ कोई जन्नत में अल्लाह की रहमत के बगैर दाख़िल न होगा? सहाबा किराम ने सवाल किया कि या रसूलल्लाह ! आप भी अल्लाह की रहमत के बगैर जन्नत में न जाएंगे? इसके जवाब में सैयदे आलम ने अपना मुबारक हाथ…
Read More
Duniya में दोबारा आने की दरखास्त | सब धोके में हैं | Dawat-e-Tabligh

Duniya में दोबारा आने की दरखास्त | सब धोके में हैं | Dawat-e-Tabligh

Maidan-e-Hashr
‘अगर उन्हें लौटा दिया जाए तो फिर वे गुनाह करेंगे जिससे मना किया गया है। बेशक ये बड़े झूठे हैं।' लीडरों की बेज़ारी, दुनिया में दोबारा आने की दरखास्त | सब धोके में हैं | Dawat-e-Tabligh दुनिया में दोबारा आने की दरखास्त | सब धोके में हैं | Dawat-e-Tabligh दुनिया में दोबारा आने की दरखास्त सूरः अलिफ लाम-मीम सज्दा में फ़रमाया : ‘और अगर तुम वह वक़्त देखो जबकि मुज्रिम अपने परवरदिगार के सामने सिर झुकाये हुए (कह रहे) होंगे कि ऐ हमारे माबूद ! हमने देख लिया और सुन लिया। हमें आप दुनिया में लौटा दीजिए। हम नेक काम करेंगे। अब हमें यकीन आ गया। उस वक्त अजीब मंज़र देखोगे।' लेकिन एक तो इन्हें दोवारा दुनिया में भेजा नहीं जाएगा और अगर भेज भी दिया जाए तो फिर नाफरमानी…
Read More
Jannat से aacha kya होगा? | Jahannam से निकलना | अनोखी हेरानी |Dawat-e-Tabligh

Jannat से aacha kya होगा? | Jahannam से निकलना | अनोखी हेरानी |Dawat-e-Tabligh

Maidan-e-Hashr
मेरे पास तुम्हारे लिए इससे भी अफ़ज़ल नेमत है। तुम जिसे पहचानते हो, निकाल लो! चुनांचे वे लोग दोज़ख़ से भारी तादाद में लोगों को निकालेंगे । Jannat से अफ़ज़ल kya होगा? | Jahanam से निकलना | अनोखी हेरानी |Dawat-e-Tabligh Jannat से अफ़ज़ल kya होगा? | Jahannam से निकलना | अनोखी हेरानी |Dawat-e-Tabligh Jannat का दरवाजा कौन खुलवाएंगे ? प्यारे नबी जन्नत खुलवाएंगे आहज़रत सैयदे आलम ने फ़रमाया कि क़ियामत के दिन तमाम पैगम्बरों से ज्यादा मेरे तरीके पर चलने वाले मौजूद होंगे और मैं सबसे पहले जन्नत का दरवाज़ा (खुलवाने के लिए) खटखटाऊंगा।' यह भी इर्शाद फ़रमाया कि मैं क़ियामत के दिन जन्नत के दरवाज़े पर आकर खोलने के लिए कहूंगा। जन्नत का दारोगा सवाल करेगा कि आप कौन हैं? मैं जवाब दूंगा कि मुहम्मद हूं! यह सुनकर वह…
Read More