सिफ़ारीश किन के लिए होगी ? | बच्चे का (इंतिकाल) मरना कैसा है ? | Dawat-e-Tabligh

सिफ़ारीश किन के लिए होगी ? | बच्चे का (इंतिकाल) मरना कैसा है ? | Dawat-e-Tabligh

Maidan-e-Hashr
मौजूदगी में बच्चे का इंतिकाल हो जाए। बच्चे की मौत पर जो मां-बाप को ग़म होता है। अगर अधूरा बच्चा गिर गया तो वह भी मां-बाप को... । सिफ़ारीश किन के लिए होगी ? | बच्चे का (इंतिकाल) मरना कैसा है ? | Dawat-e-Tabligh सिफ़ारीश किन के लिए होगी ? | बच्चे का (इंतिकाल) मरना कैसा है ? | Dawat-e-Tabligh शफाअत क़ियामत में शफाअत भी अल्लाह जल्ल ल शानुहू क़ुबूल फरमाएंगे और उससे ईमान वालों को बड़ा नफा पहुंचेगा। आंहज़रत सैयदे आलम ने इर्शाद फ़रमाया है कि कियामत के दिन तीन गिरोह शफाअत करेंगे। 1) अंबिया किराम अलैहिमुस्सलातु वस्स्लाम, 2) उलमा और 3) शुहदा' लेकिन शफाअत वही कर सकेगा, जिसे अल्लाह तआला की तरफ से शफाअत करने की इजाज़त होगी। जैसा कि आयतल कुर्सी में फ़रमाया : मन जल्लजी यशफर…
Read More