घमंडी लोगो का क्या होगा ?| Allah ki अदालत 3| Dawat-e- Tabligh

Maidan-e-Hashr
यहां दुनिया में जो छोटा-बड़ा होने के मेयार हैं यहीं रह जाएंगे। बड़े-बड़े घमंडी, जो दुनिया में बहुत घमंडी और सरबुलंद समझे जाते थे, घमंडी लोगो का क्या होगा ?| Allah ki अदालत 3| Dawat-e- Tabligh ... घमंडी लोगो का क्या होगा ?| Allah ki अदालत 3| Dawat-e- Tabligh घमंडी लोगो का क्या होगा?  कियामत के दिन अमल के मुताबिक रुत्वों में फर्क होगा और छोटाई-बड़ाई का मेयार नेकी-बदी होगा। यहां दुनिया में जो छोटा-बड़ा होने के मेयार हैं यहीं रह जाएंगे। बड़े-बड़े घमंडी, जो दुनिया में बहुत घमंडी और सरबुलंद समझे जाते थे, कियामत के दिन दोज़ख़ के गहरे गढ़े में ढकेल दिए जाएंगे और उनकी बड़ाई और चौधराहट धूल में मिल जाएगी। वहाँ ये मर्दूद कहेंगे : 'मेरा माल मेरे कुछ काम न आया, जाती रही मेरी हुकूमत…
Read More
अंधेरे मैं Masjid जाने के फ़ायदे | Allah ki अदालत 2 Maidan-e-Hashr | Dawat-e-Tabligh

अंधेरे मैं Masjid जाने के फ़ायदे | Allah ki अदालत 2 Maidan-e-Hashr | Dawat-e-Tabligh

Maidan-e-Hashr
‘यानी उस दिन दुनिया के दोस्त एक-दूसरे के दुश्मन बने हुए होंगे। हां! परहेज़गारों की दोस्ती उस वक्त भी कायम रहेगी।अंधेरे में Masjid जाने वालों को खुशख़बरी सुना दो कि.. अंधेरे मैं Masjid जाने के फ़ायदे | Allah ki अदालत 2 Maidan-e-Hashr | Dawat-e-Tabligh अंधेरे मैं Masjid जाने के फ़ायदे |Allah ki अदालत 2 Maidan-e-Hashr | Dawat-e-Tabligh सबसे ज़्यादा भूखे कौन रहेगे ?   क़ियामत के दिन सबसे ज़्यादा भूखे हज़रत इब्ने उमर से रिवायत है कि हज़रत रसूल करीम के सामने एक शख़्स ने डकार ली। आप ने फ़रमाया कि अपनी डकार कम करो क्योंकि क़ियामत के दिन सबसे ज़्यादा देर तक वही भूखे रहेंगे जो दुनिया में सबसे ज्यादा देर तक पेट भरे रहते हैं।" दोगले इंसान का क्या होगा ?  दोगले का हश्र हज़रत अम्मार से रिवायत 7है…
Read More
Allah की Adalat | बीवी को परशान करने की क्या सजा है? | Dawat-e-Tabligh

Allah की Adalat | बीवी को परशान करने की क्या सजा है? | Dawat-e-Tabligh

Maidan-e-Hashr
हश्र के मैदान में मौजूद लोगों की अलग-अलग हालतें । जिस मर्द के पास दो बीवि हों और उसने उनके दर्मियान इंसाफ न किया हो तो.... Allah ki अदालत Allah ki अदालत Maidan-e-Hashr | बीवी को परशान करने की क्या सजा है? | Dawat-e-Tabligh परिचय  हश्र के मैदान में मौजूद लोगों की अलग-अलग हालतें । भिखारियों की हालत kiski hogi?  हज़रत अब्दुल्लाह बिन उमर से रिवायत है कि आंहज़रत ने इर्शाद फ़रमाया कि आदमी लोगों से सवाल करते-करते उस हालत को पहुंच जाता है कि क़ियामत के दिन इस हालत में आयेगा कि उसके चेहरे पर गोश्त की ज़रा-सी भी बोटी न होगी' यानी भीख मांगने वाले को रुस्वा और ज़लील करने के लिए हश्र के मैदान में इस हाल में लाया जाएगा कि उसके चेहरे पर बस हड्डियाँ ही…
Read More