Hazratji Maulana Yousuf  ताज़ियतनामा| Dawat-e-Tabligh

Hazratji Maulana Yousuf  ताज़ियतनामा| Dawat-e-Tabligh

Hazratji Molana Yousuf 
Hazratji Maulana Yousuf ताज़ियतनामा, इसे उन्होंने बरक़रार ही नहीं रखा, बल्कि इसमें और चार चांद लगा दिए थे।....  ताज़ियतनामा - मौलाना अब्दुल माजिद दरियाबादी, एडीटर 'सिदके जदीद’         शेखुत्तब्लीग़ मौलाना मुहम्मद यूसुफ़ कांधलवी सुम-म देहलवी की शख्सियत हिन्दुस्तानगीर (ओल इंडिया) सी नहीं रही थी, ओल वर्ल्ड (आफ़ाक़गीर) हो चुकी थी। बर्मा, जापान वग़ैरह तो फिर एशिया ही के मुल्क हैं। इनकी तब्लीग़ी जमाअतें तो ईमान का कलिमा पढ़ती हुई, यूरोप और अफ्रीक़ा और अमरीका के मुल्कों तक पहुंच चुकी थीं और कितनों को कलिमा शहादत पढ़ा चुकी थीं। एक हैरतअंगेज़ जादुई-सा दीनी निज़ाम उनकी मनातीसी शख़्सियत ने, इस बेदीनी के दौर में, दुनिया भर में क़ायम कर दिया था और इस तहरीक की जो क़ियादत इन्हें अपने वालिद माजिद मौलाना मुहम्मद इलयास रहमतुल्लाहि अलैहि से वरसे में…
Read More
Hazratji Maulana Yousuf कौन है?| 2nd Ameer of Tabligh Jamaat| Dawat-e-Tabligh

Hazratji Maulana Yousuf कौन है?| 2nd Ameer of Tabligh Jamaat| Dawat-e-Tabligh

Hazratji Molana Yousuf 
2nd Ameer of Tabligh Jamaat, हज़रत मौलाना मुहम्मद यूसुफ रह० का दौर जिन लोगों ने देखा है वह अच्छी तरह जानते हैं कि Hazratji Maulana Yousuf....  आसमां तेरी लहद पर शबनम अफ़शानी करे  परिचय ये लाइनें लिखते वक़्त क़लम का जिगर फट उठता है कि आलमे इस्लाम की सबसे बड़ी तब्लीग़ी तहरीक के रहनुमा शेख़े वक़्त और आलिमे रब्बानी हज़रत मौलाना मुहम्मद यूसुफ़ साहब लगभग चौथाई सदी तक लगातार सफ़र, लगातार जद्दोजेहद, लगातार दावत और लगातार नक़ल व हरकत के बाद अब ख़ुदा के जवारे रहमत में आराम कर रहे हैं यानी रात बहुत थे जागे, सुबह हुई आराम किया। मुन्शी अनीस अहमद मरहूम ने हज़रत जी (मौलाना मुहम्मद यूसुफ़ रह०) के आखिरी दौर की ऐसी बहुत सी अहम तक़रीरें जमा करके छापी थीं, साथ ही हज़रत के आखिरी वक्त…
Read More
ख़ुदा का चाहने वाला (कविता) |Hazratji Molana Yousuf| Dawat-e-Tabligh

ख़ुदा का चाहने वाला (कविता) |Hazratji Molana Yousuf| Dawat-e-Tabligh

Hazratji Molana Yousuf 
ख़ुदा के दीन की ख़ातिर लुटा दी जिदंगी उसने  ख़ुदा के दीन की ख़ातिर ही वह दुनिया में जीता था।   वह यूसुफ़, वह अमीरे आजमे तब्लीग़ इस्लामी, ख़ुदा के नाम का आशिक़ ख़ुदा के दीं का मतवाला । उसे अब हम न पाएंगे, उसे अब हम न देखेंगे, ख़ुदा के पास जा पहुंचा, ख़ुदा का चाहने वाला ।  लगन थी उसके दिल में हर घड़ी हर लम्हा मज़हब की उसे हर दम ख्याले इश्क़ मौला मस्त रखता था । ख़ुदा के दीन की ख़ातिर लुटा दी जिदंगी उसने  ख़ुदा के दीन की ख़ातिर ही वह दुनिया में जीता था।  ख़ुदा के दीन का परचम उड़ाया उसने दुनिया में बजाया, चार सू उसने ख़ुदा के दीन का डंका । क़ियामत तक ख़ुदा-ए-पाक की हों रहमतें उस पर करे अल्लाह उसका…
Read More
Real कामयाबी kisme hai? |Hazratji Molana Yousuf Bayan in Hindi| Dawat-e-Tabligh

Real कामयाबी kisme hai? |Hazratji Molana Yousuf Bayan in Hindi| Dawat-e-Tabligh

Hazratji Molana Yousuf 
मरने से पहले-पहले इस बात को दिल में उतार ले कि हुजूर सल्ल० के तरीक़े में इस्तेमाल होने में कामयाबी है और मुल्क व माल के चीथड़ों में कोई कामयाबी नहीं, इसको अपने पे खोल ले। मरने से पहले-पहले तेरे दिल पे खुल जाए,  रईसुत्तब्लीग़ हजरत मौलाना मुहम्मद यूसुफ़ नव्वरल्लाहु मरदहू ने यह तकरीर दिल पज़ीर अपनी वफ़ात से एक हफ्ता पहले गुजरानवाला में जुमा की नमाज़ से पहले फ़रमाई थी, गोया यह आपकी जिंदगी का आखिरी जुमा था, जिसमें आपने यह तकरीर फ़रमाई। इससे अगले जुमा यानी 2 अप्रैल 1965 ई० को लाहौर बिलाल पार्क में आपका विसाल हो गया और आप हम सबको सोगवार छोड़कर अपने ख़ालिक हक़ीकी से जा मिले। इन्ना लिल्लाहि व इन्ना इलैहि राजिऊन० मुरत्तिव : मीर अब्दुल हलीम, गुजरानवाला real कामयाबी kisme hai? Allah…
Read More
 ज़िंदगी गुज़रने का असल तरिका |Hazratji Molana Yousuf Bayan in Hindi| Dawat-e-Tabligh

 ज़िंदगी गुज़रने का असल तरिका |Hazratji Molana Yousuf Bayan in Hindi| Dawat-e-Tabligh

Hazratji Molana Yousuf 
दुनिया के हालात पर नजर डालें तो हालात की ख़राबी के साए नज़र आते हैं, हालात का ताल्लुक आमाल से है। अपने तरीक़ों को नबियों के तरीक़ों से बदलो ज़िंदगी गुज़रने का असल तरिका तारीख़ 18 अप्रैल सन् 1964 ई०, मुताबिक 18 जुलहिज्जा सन् 1384 हि० को बाब इब्राहीम हरम शरीफ़ मक्का मुकर्रमा के इज्तिमाअ में, वक़्त अरबी 2 बजे दिन हिन्दुस्तानी टाइम 10 बजे में की गई तक़रीर हम्द व सना के बाद, बिरादराने इस्लाम ! सारी दुनिया के हालात पर नजर डालें तो हालात की ख़राबी के साए नज़र आते हैं। हाकिम व महकूम के हालात ख़राव, मालिक व मजदूर के हालात खराब, ज़मींदार व किसान के हालात खराब, अमीर और ग़रीब के हालात ख़राब नज़र आते हैं। दुनिया वालों ने मेहनत के तरीक़े बदल लिए हैं। मुल्क…
Read More