''जनाब'' लफ्ज़ किसी ज़माने में गाली होती थी

कुछ अंग्रेजी लोग थे वे दीनी तलबा को बहुत तंग करते थे।

कहने लगे कि अंग्रेज़ी-ख्वां लोगों के लिए कोई ऐसा लफ़्ज़ बनाएं जिसमें उनकी सारी सिफ़ात आ जाएं।

एक ने कहा कि इनमें बड़ी जिहालत होती है।

दूसरे ने कहा कि ये लोग बड़े नालायक होते हैं।

तीसरे ने कहा कि ये बड़े अहमक होते हैं।

चौथे ने कहा कि वे तो बड़े बेवकूफ होते हैं।

चुनांचे उन्होंने एक लफ़्ज़ बनाया 'जनाव' जीम से जाहिल,

नून से नालायक, अलिफ़ से अहमक़, वे से बेवकूफ़

उसके बाद उन्होंने हर अंग्रेज़ी- ख्वा को जनाब कहना शुरू कर दिया।

यह लफ़्ज़ ऐसा मशहूर हुआ कि आज किसी को पता ही नहीं कि यह बना कैसे था

Kabar की ज़मीन भी मँहगी क्यों होगी ?

Kabar की ज़मीन भी मँहगी क्यों होगी ?